Karnal-लगभग 7 सालों में लगभग 10 लाख समस्यांए आई

मुख्यमंत्री ने किया लाखों युवाओं से सीधा संवाद, डेढ़ घण्टे चला वेबिनार

 

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि युवाओं को सही दिशा व मार्गदशन मिले और उनकी ऊर्जा का सदुपयोग हो तो वह राष्ट्र के चहुंमुखी विकास में कारगर साबित होगी। इसके लिए उन्हें सक्षम मार्गदर्शक का अनुसरण भी अतिआवश्यक है।

 

मुख्यमंत्री आज यहां राईजिंग यूथ टॉक कार्यक्रम के तहत 1500 युवाओं से वीसी के माध्यम से सीधा संवाद कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने सत्यनिष्ठा और त्याग की मूर्ति, अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी के बलिदान दिवस पर श्रद्वासुमन अर्पित करते हुए कहा कि उनका जीवन देश के युवाओं के लिए आदर्श रहेगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को सारथी, साथी व गुरू की आवश्यकता जीवन के हर मोड़ पर होती है। इसलिए युवाओं को विकट परिस्थितियों में सहयोग देने वाला गुरू धारण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि युवा स्कीलिंग में आगे बढे और अपना जीवन दूसरों के हितार्थ काम में लाएं तथा देश व समाज के लिए जीना सीखें।

 

युवाओं को नशे की प्रवृति से दूर रखना प्राथमिका

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को नशे की प्रवृति से निजात दिलाने के लिए 8 राज्यों का संयुक्त कार्यालय पंचकूला में खोला गया है। इसके अलावा एंटी नारकोटिक्स ब्यूरो का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि नशे की प्रवृति के प्रति युवाओं को सचेत एवं जागरूक करने के लिए बेटी बचाओ बेटी बढाओ अभियान की तर्ज पर सामाजिक अभियान चलाने की आवश्यकता है। इसके अलावा व्यक्तिगत स्तर पर भी लोगों को आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोगों की समस्याओं का निवारण करने के लिए सीएम विण्डों संचालित की जा रही है। लगभग 7 सालों में लगभग 10 लाख समस्यांए आई है, इनमें से 90 प्रतिशत समस्याओं का समाधान किया गया है। सीएम विण्डों पर आने वाली समस्याओं के निवारण से नागरिक संतुष्ट है।

 

राष्ट्र विकास ही मूलमंत्र

मुख्यमंत्री ने कहा कि जाति व्यवस्था समाज के लिए घातक है। सरकार हरियाणा एक हरियाणवी एक नारे के साथ कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में युवाओं को आगे बढाने तथा राजनीतिक विकास के बड़े लक्ष्य रखे जाएगें। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मूलमंत्र -राष्ट्र पहले सब बाद में-को लेकर देश को विश्व गुरू बनाना है, तभी देश की तरक्की हेगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने बिना जातिगत भेदभाव के क्षेत्रों का विकास किया है। सामाजिक माहौल में सुधार लाने के लिए सामाजिक, धार्मिक और संस्कारयुक्त शिक्षा पर जोर दिया है। इसके अलावा लोगों को रास्ता दिखाने के लिए कई ओर कार्यक्रम चलाए जाएगें। ऐसे कार्यक्रमों से जनता में आत्मविश्वास बढेगा और सामाजिक बदलाव भी आएगा।

 

अंत्योदय की भावना से कार्य

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि अंत्योदय की भावना से लक्ष्य सामने रखकर कार्य करने से कोई चूक और भय नहीं होता। मन में किसी का बूरा करने का भाव नहीं आए और न्याय सभी को समान रूप से मिले। मेरिट मिशन के साथ साथ समाज के अंतिम व्यक्ति को सरकार की योजनाओं का लाभ मिले। इसके लिए परिवार पहचान पत्र योजना शुरू की गई है। इससे 54 योजनाओं को जोडा गया है जिसमें अब तक 67 लाख परिवारों का डाटा सत्यापित किया गया है। प्रदेश में अंत्योदय उत्थान मेले लगाकर 90 हजार परिवारों से सीधा संवाद किया गया है। निजी क्षेत्रों में युवाओं को रोजगार के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। मुद्रा योजना में एक करोड़ रुपए तक बैंक ऋण मुहैया करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिन परिवारों में सरकारी नौकरियां नहीं उन्हें 5 प्रतिशत अतिरिक्त अंक देने का निर्णय लिया गया है। इस प्रकार सरकार हर व्यक्ति को रोटी, कपड़ा और मकान-सबको शिक्षा, स्वास्थ्य और सम्मान के मूलमंत्र पर कार्य कर रही है।

 

विदेश सेवा सहयोग का गठन

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कालेजों में शिक्षा हासिल करने वाले विद्यार्थियों के लिए पासपोर्ट बनाने की योजना लागू की है। विदेशों में भेजने के लिए विदेश सहयोग विभाग का गठन किया गया है। विदेशों से एमओयू किया जाएगा जिससे युवाओं को कठिनाई न हों। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्कील डिवलेपमेंट युनिवर्सिटी भी बनाई गई है। यह युवाओं को उनकी क्षमता और आवश्यकता अनुसार निपुण बनाने का कार्य कर रही है।

 

मुख्यमंत्री आवास पर लाईब्रेरी स्थापित

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि किताबें ज्ञान की पूंजी है। किताबों से व्यक्तिगत एवं सामाजिक जीवन में बदलाव आता है। ज्ञान अर्जित करने के लिए मुख्यमंत्री आवास पर भी बड़ी लाईब्रेरी का स्थापित की गई है। इसमें हजारों की संख्या में पुस्तकें रखी जाएगी, जिन्हें लोगों ने उन्हें भेंटस्वरूप प्रदान की हैं। शीघ्र ही इस लाईब्रेरी का उदघाटन पदम श्री, साहित्य एवं खिलाड़ियों से करवाया जाएगा।

 

इज ऑफ लिविंग इंडेक्स

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि भुटान देश के हेपीनेस इंडेक्स की तर्ज पर हरियाणा में इज ऑफ लिविंग इण्डेक्स में नागरिक कैसे खुश रहें, उनकी ग्रेडिंग की जा रही है। पीडीएफ की दूकानांं पर पीपीपी से ही राशन मिलना शुरू हो गया है। इसके अलावा 60 वर्ष की आयु पूरी करने वाले लोगों की स्वतः ही पैंशन शुरू हो जाएगी। कानून व्यवस्था में सुधार, महिलाओं का सम्मान जैसे कार्यक्रम संचालित किए है। इस प्रकार सरकार ने व्यवस्था परिवर्तन के लिए सामाजिक संस्कारों में इजाफा करने का कार्य किया है। इससे आम आदमी का जीवन सरल एवं सुगम हुआ है।

 

#Haryana #DIPRHaryana